क्या है मेटावर्स? कैसा होगा फेसबुक के बिजनेस का नया रूप?

Metaverse क्या है? जानिए इसकी पूरी जानकारी

क्या है मेटावर्स (Metaverse kya Hai in Hindi) : अभी हाल में ही कुछ दिनों पूर्व, एक विशालकाय सोशल मीडिया कंपनी, फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने अपने कर्मचारियों के साथ भविष्य की योजनाओं पर चर्चा की।

चर्चा के दौरान उन्होने कहा कि हमें भविष्य में कंपनी के विस्तार के लिए आधुनिक वैज्ञानिक प्रोन्नतियों का अधिक से अधिक उपयोग कर भौतिक जगत के विभिन्न व्यावसायिक, सामाजिक समुदायों,  उत्पादकों, वाणिज्य संस्थानों के साथ साथ, आभासी दुनियाँ के उत्पादों के व्यवसाय को अधिक से अधिक सुविधाजनक और सुलभ बनाने की दिशा में कार्य करना होगा।

इसके लिए फेसबुक को सीधे विज्ञान-फाई (Sci-fi) के अधिकतम और आपस में जुड़े अनुभवों के समूहों के निर्माण का प्रयास करना चाहिए जो एक ऐसी दुनिया से संबन्धित होगा जिसमें क्रेता और विक्रेता बिना भौतिक उपस्थिति के ही भौतिक उपस्थिति का अनुभव करेंगे। इस दुनियाँ को  मेटावर्स के नाम से जाना जाता है।

इस चर्चा के उपरांत, जब यह स्पष्ट है कि मार्क जुकरबर्ग जैसे व्यावसायिक जगत के दिग्गज एक ऐसी आभासी और काल्पनिक दुनिया के व्यावसायिक उपयोग के प्रति गंभीरतापूर्वक विचार कर रहे हैं जो अभी तक साइंस फिक्शन की दुनिया से बाहर आकार, वीडियो गेम्स की दुनियाँ तक सीमित है। यह दुनियाँ वर्तमान की इंटरनेट की आभासी दुनियाँ  का एक प्रकार का विस्तार है

[Top 10] Small Business ideas in Hindi: काम के साथ, पढ़ाई भी और कमाई भी
Business ideas

जिसमें दुनियाँ में किसी भी कोने में बैठा हुआ कोई भी व्यक्ति दुनियाँ के दूसरे कोने में बैठे व्यक्ति के साथ उसी प्रकार व्यावसायिक लेनदेन, वस्तुओं और विचारों का आदान-प्रदान कर सकता है जैसे अभी वह अपने ऑफिस या घर के एक कमरे में आमने सामने बैठकर करता है।

यह विचार जब समाचारों में आ गया है तो आम लोगों के मन में यह जानने की इच्छा स्वाभाविक है कि मेटावर्स वास्तव में क्या होता है और इस तकनीकी का व्यावसायिक उपयोग किस प्रकार संभव है और भविष्य का वैश्विक व्यावसायिक जगत इसका उपयोग किस प्रकार कर सकेगा।

Metaverse Kya Hai? – क्या है मेटावर्स

क्या-है-मेटावर्स-what-is-metaverse-in-hindi
क्या है मेटावर्स: Source- Mark Zuckerberg

Metaverse kya Hai in Hindi: मेटावर्स? एआई (artificial intelligence) तकनीकी पर आधारित मेटावर्स हमेशा वर्चुअल वातावरण में रहने वाला 3 डी दुनियाँ का एक नेटवर्क होता है जिसमें एक ही समय में, एक साथ बहुत से लोग अपने वर्चुअल प्रतिनिधित्व का संचालन करके एक दूसरे के साथ और बहुत सी भौतिक और डिजिटल वस्तुओं की अन्तःक्रिया (interaction) कर सकते हैं। meta

वस्तुतः, मेटावर्स (क्या है मेटावर्स) एक डिजिटल दुनिया है जहां हम जो कुछ भी कल्पना कर सकते हैं वह मौजूद हो सकता है। जब हम हर समय मेटावर्स से जुड़े रहते हैं तो  हमारी दृष्टि, ध्वनि और स्पर्श की इंद्रियों की अनुभूति का स्वरूप व्यापक हो जाता है।

नेटवर्क की इस आभासी दुनियाँ में हम भौतिक दुनिया और डिजिटल वस्तुओं का सम्मिश्रण कर सकते हैं, या जब भी हम चाहते हैं पूरी तरह से तल्लीन होकर 3 डी वातावरण में विचरण कर सकते हैं। आधुनिक जगत वैज्ञानिक प्रौद्योगिकी के इस परिवार को सामूहिक रूप से विस्तारित वास्तविकता (extended reality) के रूप में जानता है। इसे कुछ उदाहरणों द्वारा अधिक स्पष्ट रूप से समझा जा सकता है:

उदाहरण 1. कल्पना कीजिये कि क्या है मेटावर्स जब आप सड़क जा रहे हैं, अचानक, आप एक ऐसे उत्पाद के बारे में सोचते हैं जिसकी आपको आवश्यकता है। तभी आपके ठीक बगल में, एक वेंडिंग मशीन दिखाई देती है, जो उस उत्पाद और उस उत्पाद की विविधताओं से भरी होती है जिसके बारे में आप सोच रहे थे। आप रुकते हैं, वेंडिंग मशीन से वह उत्पाद चुनते हैं,  भुगतान करते हैं और इसे आपके घर भेज दिया जाता है, और फिर अपने रास्ते पर चलते लगते हैं।

उदाहरण 2.  एक पति और पत्नी की कल्पना कीजिये। पति बाज़ार जा रहा  है, पत्नी उससे कोई उत्पाद मंगाना चाहती है लेकिन पत्नी को उस उत्पाद का नाम और प्रकार, जिसकी उसे जरूरत है, याद नहीं आ रहा है। उसका मस्तिष्क-कंप्यूटर इंटरफ़ेस उपकरण उसके इच्छित उत्पाद की पहचान करता है और उसे उसके पति के उपकरण के साथ एक लिंक के रूप में ट्रांसमिट करता है, साथ ही यह भी बताता है उक्त उत्पाद उसके निकटतम किस स्टोर में उपलब्ध है और वह स्टोर कहाँ पर स्थित है। meta

इससे स्पष्ट है कि Metaverse kya Hai? मेटावर्स एक ऐसी डिजिटल आभासी दुनिया है जहां पर लोग वास्तविक रूप में काम करते हैं, विभिन्न खेल खेलते हैं, वस्तुओं का लेनदेन करते हैं और इससे भी आगे जाकर सामाजीकरण संबंधी कार्य भी करते हैं। आप इसे मेटावर्स, मिरर वर्ल्ड, एआर क्लाउड, जिकवर्स, स्पैटियल इंटरनेट या लाइव मैप्स कोई भी नाम दे सकते हैं, लेकिन एक बात निश्चित है, कि आने वाला भविष्य इसी का है। भविष्य में इसका क्या स्वरूप होगा यह समझने के लिए इसकी पृष्ठभूमि को समझना आवश्यक है।

क्या है मेटावर्स की पृष्ठभूमि : What is Metaverse

What is Metaverse – एक प्रसिद्ध अमेरिकी उपन्यासकार नील स्टेफ़ेन्सन ने 1992 में अपने एक साइंस फिक्शन “स्नोकैश” में इंटरनेट की भांति एक वर्चुअल रियलिटी वर्ल्ड की कल्पना की थी जिसमें उपभोक्ता अपने स्वयं के डिजिटल ‘अवतार’ के साथ अन्तःक्रिया (interaction) कर सकते थे। उसने उस वर्चुअल रियलिटी वर्ल्ड  को ‘मेटावर्स’ नाम दिया था।

इसके बाद के साइंस फिक्शन उपन्यासकारों ने ‘अवतार’ और ‘मेटावर्स’ का बहुत प्रयोग किया। उस काल में बनी कुछ 3 डी चलचित्र भी इसी दुनियाँ का एक रूप थे। हालांकि, इन चलचित्रों को अपधिक पसंद नहीं किया गया इसलिए चलचित्र जगत में आगे नहीं बढ़ सका।

परंतु खेल जगत में इस काल्पनिक दुनिया को इतना पसंद किया गया कि इस परिकल्पना के आधार पर वीडियो गेम्स बनाने वाली कंपनियों ने 3 डी वीडियो गेम्स बनाने आरंभ कर दिये जो बहुत जल्द लोकप्रिय हो गए क्योंकि इस आभासी दुनियाँ में लोग वास्तविक दुनियाँ जैसी अनुभूति करते थे और उनको ऐसा लगता था कि गेम्स के दौरान अन्तःक्रिया कोई अन्य नहीं बल्कि वे स्वयं कर रहे हैं। metaverse kya hai in hindi

Business Model of Metaverse : मेटावर्स का व्यावसायिक महत्व

Business Model of Metaverse – यह तकनीकी का युग है। दुनियाँ भर के बाज़ार का एक बहुत बड़ा हिस्सा इंटरनेट पर आधारित है। आज क्रेताओं और विक्रेताओं को व्यवसाय हेतु एक दूसरे के सामने भौतिक रूप से उपस्थित होने की कोई आवश्यकता नहीं होती।

यहाँ तक कि वर्षों पुराने व्यावसायिक सम्बन्धों के बावजूद, आवश्यक नहीं कि क्रेता और विक्रेता एक दूसरे के चेहरे से भी परिचित हो। आने वाला समय इसके विस्तार का है, जिसका एक स्वरूप मेटावर्स होगा। व्यावसायिक जगत के विशेषज्ञों का तो यहाँ तक मानना ​​है कि आने वाले समय में मेटावर्स एक बहुत बड़ी अर्थव्यवस्था होगी,

जो वर्तमान की संपूर्ण वैश्विक अर्थव्यवस्था के कुल मूल्य के 10 गुना मूल्य तक का प्रतिनिधित्व करेगी। भले ही आज यह बात काल्पनिक लग रही हो, फिर भी  मार्क जुकरबर्ग की इस बात से स्पष्ट झलक मिलती है कि मेटावर्स जल्द ही व्यावसायिक जगत की वास्तविकता बन सकता है।

कैसा होगा मेटावर्स का स्वरूप

आज की व्यावसायिक दुनियाँ में हमें एक दूसरे के साथ संवाद करने के लिए बहुत से उपकरण विकसित कर लिए हैं। विभिन्न उपकरणों के माध्यम से भौतिक उपस्थिति के बिना, व्यावसायिक मीटिंग्स, राजनैतिक जनसभायेँ आदि सफलतापूर्वक संचालित होने लगी हैं। Metaverse in hindi

मेटावर्स इसी का एक विस्तारित रूप है। मेटावर्स कोई अलग दुनियाँ न होकर वास्तविक दुनियाँ के साथ परस्पर जुडने वाली एक विस्तारित आभासी दुनियाँ होगी। इस आभासी दुनियाँ में लोग दुनियाँ के किसी कोने में बैठ कर आपस में उसी प्रकार अंतःक्रिया करने में सक्षम होंगे जैसे वे एक कमरे में आमने सामने बैठकर अंतःक्रिया करते हैं। सरल शब्दों में कहा जाए तो मेटावर्स एक ‘इमर्सिव रियलिटी वर्ल्ड’ है जो वास्तविक दुनिया की अनुभूति कराता है।

क्या हैं इसके मार्ग की वर्तमान कठिनाइयाँ  

  

अभी हमारे पास जो भी आधारभूत संरचना – इंटरनेट की गति, प्रसंसरण शक्ति, इंटरफ़ेस डिवाइस और सॉफ्टवेयर आदि उपलब्ध हैं, वह मेटावर्स की अवधारणा के व्यावसायिक उपयोग के लिए पर्याप्त सक्षम नहीं हैं। हालांकि, इसका प्रयोग वीडियो गेम्स जैसे मनोंरंजन के साधनों के रूप में अवश्य हो रहा है। इसके लिए आधारभूत ढांचा मजबूत करने और उसे व्यापक स्वरूप देने की जरूरत है।

इसमें कोई संदेह नहीं कि मार्क जुकरबर्ग, बिल गेट्स, सत्य नेंडेला जैसे व्यावसायिक जगत के दिग्गजों का चिंतन और उनकी सामूहिक पहल शीघ्र ही इस विचार को वास्तविकता के धरातल पर लाने में सक्षम होगा।

Affiliate Marketing kya hai Hindi Mai: जानिए यहां, Affiliate Marketing से पैसे कैसे कमाएं ?

कैसा होगा मेटावर्स का भविष्य – Futuer Of Metaverse

एक शुरुआत तो हो चुकी है। आटोमोबाइल सेक्टर के नए मॉडलों मर्सिडीज विजन एवीटीआर, फॉक्सवैगन आईडी लाइफ और हुंडाई प्रोफेसी जैसे उत्पाद शीघ्र ही बाजार का हिस्सा होंगे। मर्सडीज़ की कार में सारे फंक्शन सिर्फ सोच से ही नियंत्रित होंगे। इसमें हमें केवल एक ब्रेन कंप्यूटर इंटरफेस पहन कर डिजिटल डैशबोर्ड में लगे सेंसर पर फोकस करना होगा।

Artificial Intelligence टेक्नोलोजी दिमाग की तरंगों का विश्लेषण कर पता करती है कि आपका फोकस इस बात पर है। इसे वह कमांड के तौर पर लेती है और वह पहले से फीड किए गए रास्तों पर भी ले जा सकती है।

मेटावर्स नाम की आभासी दुनियाँ जो कभी साइंस फिक्शन लिखने वाले उपन्यासकारों की कल्पना थी, आज मनोरंजन की दुनियाँ की वास्तविकता बन चुकी है। इसलिए इस पर व्यावसायिक जगत के दिग्गजों की रुचि होने से यह सपना अवश्य साकार होगा। इसका व्यावसायिक उपयोग होने पर न केवल बहुमूल्य समय की बचत होगी बल्कि व्यवसाय का कई गुना विस्तार संभव होगा।   

Metaverse Kya Hai in Hindi: लेखक: आलोक वाजपेयी, एमए (अँग्रेजी एवं मनोविज्ञान) लेखक गत 20 वर्षों से विभिन्न सामाजिक, ऐतिहासिक, स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर लेख लिखते आ रहे हैं। मैं घोषणा करता हूँ कि मेरे द्वारा भेजी जा रही सामग्री मौलिक है और मैंने सभी तथ्यों को ठीक से जांच परख लिया है।

4
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x